Saturday, October 22, 2011

"हमें उजाला लाना है" (श्रीमती विद्या)

धरती के कोने-कोने पर, हमें उजाला लाना है।
हमें प्यार का एक दिया, हर घर में आज जलाना है।।

12 comments:

  1. सामयिक , सुन्दर प्रस्तुति, आभार.

    ReplyDelete
  2. सुन्दर प्रस्तुति
    परिवार सहित ..दीपावली की अग्रिम शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  3. सुन्दर प्रस्तुति| दीपावली की अग्रिम शुभकामनाएं|

    ReplyDelete
  4. हमें उजाला लाना ही है लव तो होता पगला
    दीपक बाती झूम रहे हैं, इक पिछला इक अगला
    दीवाली पर दीप जले कुछ ऐसे, ऐसे, उजला
    कहाँ रौशनी खातिर देखो, मोम जरा सा पिघला

    लिंक आपकी रचना का है
    अगर नहीं इस प्रस्तुति में,
    चर्चा-मंच घूमने यूँ ही,
    आप नहीं क्या आयेंगे ??
    चर्चा-मंच ६७६ रविवार

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  5. अच्छी भावनाओं के साथ बहुत सुन्दर मुक्तक लिखा है आपने!
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  6. सुन्दर भाव ... दीपावली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  7. सुन्दर प्रस्तुति...दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  8. समय- समय पर मिले आपके स्नेह, शुभकामनाओं तथा समर्थन का आभारी हूँ.

    प्रकाश पर्व( दीपावली ) की आप तथा आप के परिजनों को मंगल कामनाएं.

    ReplyDelete
  9. बहुत हि सुन्दर संदेश!
    हमारे तरफ से दिवाली कि शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  10. दीपावली के पावन पर्व पर हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएँ |

    way4host
    rajputs-parinay

    ReplyDelete
  11. आपको दीपावली एवं नववर्ष की सपरिवार ढेरों शुभकामनाएं !

    ReplyDelete

मैं अपने ब्लॉग पर आपका स्वागत करती हूँ! कृपया मेरी पोस्ट के बारे में अपने सुझावों से अवगत कराने की कृपा करें। आपकी आभारी रहूँगी।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में