Sunday, September 4, 2011

जिसे करते है प्यार

जिसे करते है प्यार 
आँखों में आसूँ आ जाते हैं !
फिर भी लबो पे हँसी रखनी पड़ती  हैं !!
ये मोहब्बत भी क्या चीज हैं यारो !
जिससे करते हैं उसी से छुपानी पड़ती  हैं !!

जिसको अपना समझते हैं
उसी से धोखा खा जाते हैं ॥
किसी की याद में रोना
हो चला अब तो बेमानी है
हर एक  आँसू की होती 

कोई ना कोई कहानी है  ॥


22 comments:

  1. मुक्तक में तो विरह व्यथा है,
    मगर दिल बहुत खिलखिला रहा है!
    --
    अच्छा समन्वय किया है आपने चित्र और रचना का!
    यह आपकी अच्छी भावनाओं को प्रकट करता है!

    ReplyDelete
  2. हरेक आंसू की एक कहानी होती है।

    बिल्कुल सही।

    सुंदर कविता।

    ReplyDelete
  3. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा दिनांक 05-09-2011 को सोमवासरीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  4. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ||

    सादर --

    रविकर ||

    ReplyDelete
  6. सुंदर प्रस्तुति ,अच्छी रचना

    ReplyDelete
  7. धोखा खाने के बाद ही ...प्रेम का असली स्वाद मिलता है
    सच में गाँव में ही प्यार है ,स्नेह है ....और सजनी का प्रेम भी

    ReplyDelete
  8. Bahut hi sunder....
    sach mohabbat isi ka nam hai...!

    ReplyDelete
  9. shabd ro rahe hain..dil muskura raha hai...pyar per poora bharosa ho tabhi aisa hota hai..behtarin rachna..mere blog per bhi aapka swagat hai

    ReplyDelete
  10. प्यार का दर्द जब हद्द से ज्यादा होता है तो यूँ ही छलकता है
    सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  11. आंसुओं का काम है बहना, ये बहाने वाले की जिम्मेदारी है...
    रुचिकर थीम ....... साधुवाद जी /

    ReplyDelete
  12. आँखों में आसूँ आ जाते हैं !
    फिर भी लबो पे हँसी रखनी पड़ती हैं !!

    वाह....
    सादर...

    ReplyDelete
  13. हरेक आंसू की एक कहानी होती है।...भावपूर्ण सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  14. Hi I really liked your blog.

    I own a website. Which is a global platform for all the artists, whether they are poets, writers, or painters etc.
    We publish the best Content, under the writers name.
    I really liked the quality of your content. and we would love to publish your content as well. All of your content would be published under your name, so that you can get all the credit for the content. This is totally free of cost, and all the copy rights will remain with you. For better understanding,
    You can Check the Hindi Corner, literature and editorial section of our website and the content shared by different writers and poets. Kindly Reply if you are intersted in it.

    http://www.catchmypost.com

    and kindly reply on mypost@catchmypost.com

    ReplyDelete
  15. भावमय प्रस्तुति ....

    ReplyDelete
  16. भावपूर्ण द्वन्द और व्यथा ! बहुत ही गहराई और मह्सुसियत से लिखी गई रचना.. आभार
    विद्या जी.. विशेष आभार मेरे साथ जुड़ने के लिए !

    ReplyDelete
  17. दिल को छु लेनी वाली रचना

    बधाई !!
    आभार
    विजय
    -----------
    कृपया मेरी नयी कविता " फूल, चाय और बारिश " को पढकर अपनी बहुमूल्य राय दिजियेंगा . लिंक है : http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/07/blog-post_22.html

    ReplyDelete

मैं अपने ब्लॉग पर आपका स्वागत करती हूँ! कृपया मेरी पोस्ट के बारे में अपने सुझावों से अवगत कराने की कृपा करें। आपकी आभारी रहूँगी।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में