Monday, September 5, 2011

छुपा ले आसुओं में "




तेरी हर याद छिपा लेतें हैं।
दिल हर बात छिपा लेतें हैं।
हमको मिलते हैं प्यार में धोखे-
अपने ज़ज्बात छिपा लेते हैं।।

अपनी हर पीर छिपा लेते हैं।
नयन का नीर छिपा लेते है।
तेरी रुसवाई के डर से जानम-
तेरी तस्वीर  छिपा लेते हैं।।
इंतजार की घड़ियों को छिपा लेते हैं।
टूटी हुई लड़ियों को छिपा लेते हैं।
रोने का हक नहीं है हमको तो-
इसलिए वक्त की कड़ियों को छिपा लेते हैं।।

28 comments:

  1. वाह!
    बहुत खूब लिखा है आपने तो!
    दिल के ज़ज़्बात को बहुत सुन्दरता से पेश किया है आपने!
    --
    अच्छे मुक्तक लिखने के लिए आशीर्वाद!

    ReplyDelete
  2. अध्यापकदिन पर सभी, गुरुवर करें विचार।
    बन्द करें अपने यहाँ, ट्यूशन का व्यापार।।

    छात्र और शिक्षक अगर, सुधर जाएँगे आज।
    तो फिर से हो जाएगा, उन्नत देश-समाज।।
    --
    अध्यापक दिवस पर बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर ,बेहतरीन अंदाज ..

    ReplyDelete
  4. अच्छी प्रस्तुति. मन के भाव शब्दों में उतर आये हैं

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर गज़ल
    वाह वाह

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर ग़ज़ल....

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति बधाई|

    ReplyDelete
  8. bhaav poorn पोस्ट !
    तेरी हर याद छिपा लेतें हैं।
    दिल हर बात छिपा लेतें हैं।

    ReplyDelete
  9. Har bhav chhipaana hamaari niyti ban chuka haei ..

    ReplyDelete
  10. अपनी हर पीर छिपा लेते हैं।
    नयन का नीर छिपा लेते है।
    तेरी रुसवाई के डर से जानम-
    तेरी तस्वीर छिपा लेते हैं।।

    ...बहुत खूब ! लाजवाब प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  11. bahut kuch chipa hai :)
    sundar kavita

    ReplyDelete
  12. वाह! बहुत सुन्दर **लाजवाब प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  13. रोने का हक नहीं है हमको तो-
    इसलिए वक्त की कड़ियों को छिपा लेते हैं।

    बहुत सुंदर विचार.

    ReplyDelete
  14. सुंदर भावाभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर सार्थक रचना
    आपकी सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार

    ReplyDelete
  16. अच्छे अशआर लिखती हैं आप -

    तेरी हर याद छिपा लेतें हैं।
    दिल हर बात छिपा लेतें हैं।
    हमको मिलते हैं प्यार में धोखे-
    अपने ज़ज्बात छिपा लेते हैं।।

    बहुत सुन्दर भाव और अर्थ की बेहद सार्थक प्रेरक रचना .बधाई !

    ReplyDelete
  17. बुधवार, ७ सितम्बर २०११
    किस्मत वालों को मिलती है "तिहाड़".
    http://veerubhai1947.blogspot.com/

    ReplyDelete
  18. अच्छी रचना...अंतिम पंक्तियाँ तो बहुत ही अच्छी लगीं.

    ReplyDelete

मैं अपने ब्लॉग पर आपका स्वागत करती हूँ! कृपया मेरी पोस्ट के बारे में अपने सुझावों से अवगत कराने की कृपा करें। आपकी आभारी रहूँगी।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में