Monday, August 1, 2011

कुछ पाने की आश

सब कुछ लूटकर  भी हम अपना,
कुछ पाने  की आस लगाये  बैठे है.

सीने  में सुलग  रही है अरमान कई ,
जिन्हें  अपना दोस्त बनाये  बैठे है.

जानते  है तुम साथ नही मात्र हो,

फिर भी हम तुमको अपनी धड़कन बना बैठे है 
जब से मिला है .....
दिल  की  नाज़ुक  धडकनों  को
मेरे  सनम  तुमने  धडकना  सिखा  दिया


जब  से  मिला  है  तेरा  प्यार  दिल  को
ग़म  ने  भी  मुस्कुराना  सिखा  दिया .


17 comments:

  1. sundar rachana sadhuvaad


    vidhya ji main bhi ek blog khole hun agar aap vahan aakar dekhengi to mera utsaah vardhanhoga

    www.adarsh-vyavastha-shodh.com

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर रचना लिखी आपने् तो!
    चित्र भी बहुत शानदार लगाए हैं इसके साथ!
    --
    स्नेह से बढ़ता हमेशा स्नेह है!
    प्यार का आधार केवल नेह है!!

    शुष्क दीपक स्नेह बिन जलता नही,
    स्नेह बिन पुर्जा कोई चलता नही,
    आत्मा के बिन अधूरी देह है!
    प्यार का आधार केवल नेह है!!

    ReplyDelete
  3. जानते है तुम साथ नही मात्र हो,
    फिर भी हम तुमको अपनी धड़कन बना बैठे है ... achhi abhivyakti

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छे से सजाया है आपने अपने भावों को।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर भाव संयोजन्।

    ReplyDelete
  7. as per your wish i am following your blog , if you liked my blog then join hands .

    ReplyDelete
  8. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो
    चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  9. वाह! बहुत सुन्दर...प्यार की ताक़त बेजोड़ होती है...प्यार कुछ भी कर सकता है

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर भाव लिए रचना |बधाई आप का अमृत कलश पर आ कर टिप्पणी करने के लिए आभार |यदि यहाँ आ कर अच्छा लगता है तो अनुसरण कर हौसला बढ़ाएँ
    आशा

    ReplyDelete
  11. कुछ पाने की आस ही हमें कभी हारने नही देती....

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ||

    बधाई स्वीकार करें ||

    ReplyDelete

मैं अपने ब्लॉग पर आपका स्वागत करती हूँ! कृपया मेरी पोस्ट के बारे में अपने सुझावों से अवगत कराने की कृपा करें। आपकी आभारी रहूँगी।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में